किसान महापंचायत में किसानों का ऐलान, तीनों कृषि कानून को वापस लेने तक चलेगा आंदोलन

चंदौली जिला के इलिया किसान सेवा सहकारी समिति पर अखिल भारतीय किसान सभा के तत्वावधान में किसान महापंचायत का आयोजन रविवार को किया गया।
किसान सभा के जिलाध्यक्ष परमानंद मौर्य ने कहा कि केंद्र सरकार की किसान विरोधी काले कानून से देश का किसान बड़े कारपोरेट के हाथ बंधुआ मजदूर बनकर रह जाएगा।

ऐसे कानून का अखिल भारतीय किसान सभा तथा विभिन्न किसान संगठन तब तक विरोध करेगा जब तक किसान विरोधी तीन बिल को सरकार वापस नहीं ले लेती। उन्होंने क्षेत्रीय किसानों को केंद्र सरकार के किसान विरोधी काले कानून के समर्थन में भारी संख्या में एकजुटता दिखाने का आह्वान किया। पंचायत में तीनों कृषि कानून के खिलाफ लड़ने का संकल्प लिया गया और संघर्ष के लिए 15 सदस्यों की कमेटी का गठन किया गया। किसान पंचायत में किसान आंदोलन को लेकर शहीद हुए किसानों को 2 मिनट का मौन रखते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की गई।


इस दौरान भृगुनाथ विश्वकर्मा, स्वामीनाथ, कैलाशनाथ, जयनाथ, रामनिवास पांडेय, रामअवध सिंह, नीरज कुमार, रविंद्र पांडेय, रामकिशुन शर्मा, गोपाल यादव आदि किसानों ने अपने विचार व्यक्त किए। अध्यक्षता जवाहिर मास्टर ने संचालन लालचंद सिंह एडवोकेट ने किया।