चंदौली में पहली बार हुआ घुटने का सफल प्रत्यारोपण, डॉ गौतम के सफल ऑपरेशन की हो रही तारीफ

चंदौली जिले का जिला मुख्यालय लगातार अपनी कार्यों के लिए चर्चा का विषय बना हुआ है चाहे वह अच्छा कार्य हो या बुरा, चर्चाएं बहुत तेजी से हो रही है । ऐसा ही एक नजारा देखने को मिला कि डॉ गौतम त्रिपाठी द्वारा जिला मुख्यालय पर हड्डी की मरीजों का बेहतर तरीके से इलाज करने के साथ ही साथ अब घुटने का भी प्रत्यारोपण करने का कारनामा करना शुरू कर दिया गया है।

बताते चलें कि जिला मुख्यालय पर स्थित सूर्या हॉस्पिटल व ट्रामा सेंटर के संचालक डॉ गौतम त्रिपाठी द्वारा कुछ ही महीने पूर्व यहाँ हॉस्पिटल का संचालन शुरू किया गया है। शुभारंभ के बाद लगातार एक से बढ़कर एक कार्य करने लगे हैं और लोगों को बेहतरीन सेवा देने का सिलसिला जारी है। ,

इस कारण अब दूर दराद से आकर लोग बेहतर सेवा प्राप्त करने वालों को अपने ही जिले में जटिल और असाध्य हड्डी की समस्याओं का निराकरण मिलने लगा है । जिसकी चर्चाएं जिले के बाहर भी बहुत खूब हो रही है । जिसका एक नजीर मिर्जापुर चुनार की रहने वाली पूनम देवी तथा जिले के निवासी राधेश्याम पांडेय के घुटनों का प्रत्यारोपण जिले में चर्चा का विषय बना हुआ है।

इस संबंध में पूनम देवी ने बताया कि इसके पहले मेरे द्वारा कई डॉक्टरों से संपर्क कर घुटने का इलाज कराना चाहिए लेकिन डॉक्टरों द्वारा सही सलाह तथा यहां ना होने की बात कर टालने की बात होती रही लेकिन मेरे रिश्तेदार द्वारा बताए जाने के बाद अब डॉक्टर के ऑपरेशन से बाद मेरे घुटने का बेहतर हालत है ।

वही राधेश्याम पांडेय को भी इस समस्या से आराम होने पर लोगों में यह चर्चाएं हैं ।

लोग कह रहे हैं कि अब घुटने के प्रत्यारोपण कराने के लिए जिले से बाहर जाने की कोई आवश्यकता नहीं है और हड्डी के जटिल रोगों व समस्याओं का समाधान यहीं हो सकता है।

इस संबंध में डॉ गौतम त्रिपाठी आर्थोपेडिक द्वारा बताया गया कि मेरे पास दो मरीज घुटने की दर्द की समस्या को लेकर आए थे जिनका घुटना दर्द में अधिक प्रयोग होने के कारण घिस चुका था जिनका ऑपरेशन कर उनके घुटनों का प्रत्यारोपण किया गया है और अब वह सकुशल हैं । इसलिए जिले में चर्चाएं हो रही हैं जोकि अब तक जिले में यह पहली बार ऐसे कार्य किए गए हैं । अब जिले के भी ऐसी व्यवस्था मिलना संभव हो गया है।