महाष्टमी पर घर घर पूजी गई मां गौरी, मंदिरों पर भी रही भीड़

चंदौली जिले में चैत्र नवरात्र के महाष्टमी के दिन घर-घर में महागौरी की पूजा अर्चना की गई। घरों में रात को कलश स्थापित कर मां गौरी का आह्वान कर पूजन किया गया। देवी मंदिरों पर भी भक्तों ने मां गौरी की विधि विधान से पूजा कर जयकारे लगाए और भव्य आरती उताकर अभीष्ट की कामना की।

नवरात्र में चढ़ती और उतरती व्रत करने वालों ने भी महाष्टमी पर व्रत रखा और पूजा अर्चना की। चैत्र नवरात्र के आठवें दिन माता के आठवें स्वरूप माता महागौरी की पूजा अर्चना की जाती है। सबका मंगल करने वाली महागौरी की पूजा घर घर में की जाती है। घरों में रात को कलश स्थापित कर महागौरी की पूजा अर्चना कर मंगल कामना की जाती है।

पीडीडीयू नगर के कैलाशपुरी, नई बस्ती, रविनगर, जीटी रोड, शाहकुटी, न्यू महाल, काली महाल, गल्ला मंडी, एलबीएस कटरा, चतुर्भुजपुर, अलीनगर, परशुरामपुर, पथरा, पराहुपुर, लाठ नंबर एक, लाठ नंबर दो इलाकों के साथ रेलवे के आरपीएफ कॉलोनी, गया कालोनी, डीजल कॉलोनी, मानसनगर सहित अन्य कॉलोनियों में स्थित देवी मंदिरों पर मंगलवार की सुबह भक्तों की कतार लगी।

भक्तों ने माता की विधि विधान से पूजा अर्चना की। धूप, दीप, नैवेद्य, शृंगार वस्तु, चुनरी, नारियल आदि अर्पित की। इसके बाद माता की भव्य आरती उतारी। नगर के जीटी रोड पर मां काली मंदिर पर सुबह से ही दर्शन पूजन के लिए कतार लगी रही। वहीं घरों में भी महाष्टमी पर मां गौरी की पूजा अर्चना की।

पुरोहितों ने दुर्गा सप्तशती का पाठ किया। वहीं घर के व्रतियों ने भी दुर्गा चालीसा, विंध्यवासिनी चालीसा, दुर्गा महात्म्य आदि का पाठ कर अभीष्ट की कामना की। इस दौरान भक्तों ने कोरोना से जल्दी से मुक्ति दिलाने की प्रार्थना की। घरों में शंख, घंट की ध्वनि से माहौल भक्तिमय बना रहा।