चंदौली जिले में महाशिवरात्रि पर्व पर सोमवार को हर हर महादेव के उद्घोष से मंदिर व शिवालय गूंज उठे। श्रद्धालुओं ने देवाधि देव महादेव का दुग्धाभिषेक व जलाभिषेक किया। भोर से ही चंदौली के श्रीराम जानकी शिव मठ मंदिर, चकिया के जागेश्वरनाथ, सकलडीहा के कालेश्वरनाथ, महदेवा के बालेश्वर महादेव व प्राचीन मंदिर श्रद्धालुओं की भीड़ से खचाखच भर गए। दर्शन पूजन को आस्थावानों की भीड़ पहुंचने का क्रम दोपहर तक जारी रहा।

मुगलसराय के शिव मंदिरों में दर्शन पूजन को श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। कुछ स्थानों पर मेले का भी आयोजन किया गया। शाम को कई स्थानों पर शिव बरात निकाली गई। सुरक्षा की ²ष्टि से पुलिस प्रशासन ने चाक चौबंद व्यवस्था कर रखी थी। भक्तों के बीच मंदिरों में भगवान आशुतोष का दुग्धाभिषेक व जलाभिषेक करने की होड़ लगी रही। विशेषकर मंदिरों में महिलाओं की भीड़ ज्यादा रही। श्रद्धालु फल, फूल, भांग, धतूरा, बेल पत्र आदि लेकर पूजा करने जा रहे थे। कई स्थानों पर पूजन सामग्री बेचने वाले दुकानदारों ने गाय का कच्चा दूध भी बेचा। नगर के कैलाशपुरी शिव मंदिर, आरपीएफ शिव मंदिर, मानस नगर स्थित शिव मंदिर व डीजल कालोनी शिव मंदिर सहित अन्य मंदिरों को भव्य रूप से सजाया गया था। वहीं ब्रह्म कुमारी प्रजापति कैलाशपुरी स्थित शिव मंदिर परिसर में शिविर लगाया गया।

 

चकिया इलाके में देवाधिदेव महादेव की साधना व अराधना के पर्व महाशिवरात्रि पर सोमवार को वनांचल हर-हर महादेव के उद्घोष से गूंज उठा। बाबा जागेश्वरनाथ सहित कस्बाई शिवालयों में पूजा-अर्चना व जलाभिषेक को भक्तों का भोर से तांता लग गया। शिवलिग पर फल, फूल, बेलपत्र, धूप व धतूरा आदि अर्पित कर भगवान शिव की उपासना की और कृपा ²ष्टि बनाए रखने की कामना की। बड़े व बच्चों ने मेले का जमकर लुत्फ उठाया। जागेश्वरनाथ मंदिर पर भक्तों व कांवड़ियों का हुजूम भोर से ही पहुंचने लगा। शिवभक्तों ने पंक्तिबद्ध होकर जलाभिषेक किया।

पुलिस प्रशासन की मुस्तैदी के चलते दर्शनार्थियों को जाम से राहत की सांस मिलती रही। मंदिरों पास लगे मेले में चाट-पकौड़ी सहित गुड़हिया जलेबी का रसास्वादन करना नहीं भूले। परिसर स्थित बागवानी की छांव तले लोग बाटी-चोखा बनाकर प्रसाद स्वरूप नाते-रिश्तेदारों, मित्रों को खिलाने में कंजूसी नहीं दिखाई। नगर के मां काली जी मंदिर के गर्भगृह में शिवलिग का श्रद्धालुओं ने दर्शन-पूजन कर जलाभिषेक किया। शहाबगंज, नौगढ़, इलिया, बबुरी प्रतिनिधियों के अनुसार ग्रामीण अंचल के शिवालयों पर श्रद्धालुओं की भीड़ शाम तक डटी रही। सिकंदरपुर व नौगढ़ में भव्य शिव बारात निकाली गई। 

सकलडीहा के बरठी के बाबा कालेश्वर महादेव मंदिर सहित अन्य शिवालयों में शिवरात्रि पर भक्तों ने शिवलिग का जलाभिषेक किया। मंदिर परिसर और उस ओर जाने वाले रास्तों पर हर-हर महादेव का उद्घोष गूंजता रहा। मंदिरों के आसपास चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात रही। देर शाम शिव बारात निकाली गई। बलुआ से सकलडीहा तक की सड़क पश्चिमवाहिनी गंगा से जल लेकर आ रहे कांवड़ियों से पटी रही। महिलाओं ने मंदिर परिसर में बच्चों का मुंडन संस्कार कराया। कमोवेश यही हाल जामडीह के जामेश्वर महादेव व नरैना के नर्मदेश्वर महादेव मंदिर में भी रहा। मेले का लोगों ने खूब आनंद उठाया। 

बरहनी  विकास खंड के शिवालयों में महाशिवरात्रि पर पूजन अर्चन करने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी। आस्थावानों ने भगवान शिव का परंपरागत तरीके से पूजा की। कांवरिया जन सेवा समिति ने भोर में जमानिया जाकर गंगाजी से जल भर कर रामपुर चौकी स्थित शिव मंदिर में जलाभिषेक किया। पर्व पर आवासीय विद्यालय कस्तूरबा गांधी की बालिकाओं ने रामपुर पुलिस चौकी स्थित शिव मंदिर में जलाभिषेक कर पूजन अर्चन किया।