सिंह पर सवार होकर आ रही है मकर सक्रांति, ऐसा करने से होगा अधिक धार्मिक लाभ

आगामी 14 जनवरी सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश भारतीय मानक समय के विदिशा के स्थानीय समय के अनुसार प्रातः 8:13 पर हो रहा है। सूर्य के मकर राशि में प्रवेश होते ही मकर सक्रांति का पुण्य काल प्रारंभ हो जाता है। 14 जनवरी को प्रातः 8:13 से सूर्यास्त तक हैं।

मकर सक्रांति 14 जनवरी गुरुवार को प्रातः 8:13 से भारतीय मानक समय अनुसार श्री सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेंगे। अतः इसके साथ ही पर्व काल प्रारंभ हो जाएगा। धर्म सिंधु धार्मिक ग्रंथ के अनुसार मकर सक्रांति का पर्व काल सक्रांति होने से 40 घड़ी तक रहता है, किंतु रात्रि में स्नान निषेध होने से प्रातः 8:13 से सूर्यास्त पूर्व तक पर्व काल रहेगा। मकर सक्रांति पर स्नान, दान, जप-तप, पूजन, श्राद्ध का विशेष महत्व होता है।

राशियों के अनुसार मकर सक्रांति का फल

मेष राशि- अष्ट सिद्धि, वृषभ राशि- धर्म लाभ, मिथुन राशि- शारीरिक कष्ट, कर्क राशि- सम्मान में वृद्धि, सिंह राशि- भय व चिंता, कन्या राशि- धन वृद्धि, तुला राशि- कलह व मानसिक चिंता, वृश्चिक राशि- धन आगमन खुशी, धनु राशि- धन लाभ, मकर राशि- स्थिर लक्ष्मी, कुंभ राशि- लाभ, मीन राशि- प्रतिष्ठा में वृद्धि।

राशियों के अनुसार इन चीजों का करें दान

मेष राशि- तांबे की वस्तु चादर तिल लाल वस्तु
वृषभ राशि- चांदी की बनी वस्तु सफेद वस्त्र तिल
मिथुन राशि- हरी सब्जियां चादर छाता
कर्क राशि- सफेद ऊनी वस्त्र मोती साबूदाना
सिंह राशि- गुड़ गेहूं लाल वस्तु कंबल
कन्या राशि- खिचड़ी मूंग दाल हरे वस्त्र उड़द
तुला राशि- सात प्रकार के अन्य सफेद वस्त्र चावल शकर घी
वृश्चिक राशि- लाल रंग के कपड़े तांबे का पात्र स्वर्ण मसूर
धनु राशि- पीले वस्त्र पीतल स्वर्ण चने की दाल धार्मिक ग्रंथ
मकर राशि- काले रंग का कंबल तिल से बनी वस्तु
कुंभ राशि- घी तिल साबुन अन्य
मीन राशि- धार्मिक ग्रंथ पीली वस्तुओं का दान चने की दाल पीले वस्त्र