चंदौली जिले के अलीनगर थाना क्षेत्र के पुरैनी गांव के समीप शनिवार की दोपहर किसी ट्रेन की चपेट में आकर गांव निवासी 32 वर्षीय मनीष उपाध्याय की मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। पुलिस शव का पंचनामा कर परिजनों को सौप दी। मनीष उपाध्याय चार माह से मानसिक रोग से पीड़ित था, जिसका वाराणसी स्थित एक निजी अस्पताल से उपचार चल रहा था।

पुरैनी निवासी ओमकार उपाध्याय के दो बेटों में बड़ा बेटा मनीष उपाध्याय की शादी आठ वर्ष पूर्व मिर्जापुर जिले के परसोधा निवासिनी निधि से हुआ था। शादी के बाद 5 वर्षीय बेटा दिव्यांश और 3 वर्षीय बेटी कली है। परिजनों के अनुसार बीते चार माह से मनीष की मानसिक स्थिति खराब हो गई थी। जिसका उपचार वाराणसी के निजी अस्पताल में चल रहा था। दोपहर वह रेलवे ट्रैक पर टहल रहा था, कि अचानक ट्रेन के चपेट में आ गया। इससे घटना स्थल पर ही मौत हो गई।

घटना की जानकारी मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। इस दौरान पिता व मां का जहां रो-रोकर बुरा हाल रहा। वहीं पत्नी निधि रो-रोकर बेहोश हो जा रही थी। चौकी प्रभारी जफरपुर धर्मराज सिंह ने बताया कि परिजनों व ग्रामीणों के अनुनय विनय के बाद शव का पंचनामा कर परिजनों को सौंप दिया गया है।