चंदौली जिले के पुलिस लाइन पर उस समय यह नजारा देखने को मिला कि जब एक पीड़ित परिवार की बहू ने अपने पति हत्या के न्याय के लिए पुलिस लाइन के गेट पर न्याय मांग को लेकर इस प्रकार धरने पर बैठ गयी।

परिजनों का मानना है कि हत्यारों को सजा दिलाने के बजाय पुलिस उसे बचाने में जुट चुकी है। सारा खेल पुलिस सत्तापक्ष से जुड़े लोगों के इसारे पर कर रही है। पुलिस अधिकारी ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया और भरोसा दिलाया कि उनके परिवार के साथ न्याय होगा और उनके पति के हत्यारों को सजा भी मिलेगी

बताते चलें कि बलुआ थाना क्षेत्र के चहनियां क्षेत्र के महारौड़ा ग्राम प्रधान मनोज यादव की हत्या कर दी गई थी और हत्यारे की गिरफ्तारी के बाद मामले में निष्पक्ष कार्यवाही को मांग को लेकर आज प्रधान की पत्नी समेत पूरे परिवार जन को लेकर पुलिस लाइन के गेट पर धरना पर बैठ गई। इससे महकमे में खलबली सी मच गई ।परिवार जनों का आरोप है कि पुलिस अभियुक्त गण की सिफारिश पर मुकदमे को गैर जनपद ट्रांसफर कर चुकी है । क्योंकि आरोपियों को वहां से बचाने में सुविधा होगी। इस संबंध में परिजनों ने चेताया कि यदि पुलिस न्याय पूर्ण तरीके से कार्यवाही नहीं करती है तो विवश होकर परिवार के लोग आत्मदाह कर देंगे ।

9 अप्रैल को ग्राम प्रधान की गोली मारकर हत्या किए जाने के बाद पुलिस मुकदमा दर्ज कर 7 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है लेकिन अभियुक्त गणों के सिफारिश पर मुकदमे को मिर्जापुर जनपद हस्तांतरित कर दिया गया है । आरोप यह है कि यह मामला सत्तापक्ष से जुड़े लोगों के द्वारा सिफारिश किए जाने के बाद पुलिस द्वारा जानबूझकर हत्या में अभियुक्त लोगों को बचाने के लिए मुकदमे को मिर्जापुर ट्रांसफर किया गया है।

इस संबंध में पुलिस पुलिस अधिकारी ने परिवार जनों को समझा-बुझाकर शांत किया और कहा कि पुलिस आप लोगों के साथ है और आपके पति के हत्यारे को जरूर सजा मिलेगी ।