रेलवे सुरक्षा बल डीडीयू ने मानसिक रूप से विक्षिप्त लड़के को भटकने से बचाया

चंदौली जिले के डीडीयू जंक्शन पर जब गाड़ी मुंबई मेल पहुँची तो प्लेटफार्म संख्या 07 पर कोच B-4 में एक नाबालिग लड़का घुमते हुए दिखाई दिया जिसे RPF द्वारा पकड़ कर पूछताछ की कार्रवाई की गयी । नाम पता बताने पर RPF ने परिजनों से संपर्क कर सूचना दी और लड़के को DDU चाइल्ड हेल्पलाइन डेस्क डीडीयू को अग्रिम करवाई हेतु सुप्रुद कर दिया ।

बताते चले कि जब गाड़ी संख्या 02321अप (मुंबई मेल) डीडीयू जंक्शन प्लेटफार्म संख्या 07 पर 09:42 बजे आई। रेलवे सुरक्षा बल डीडीयू के निरीक्षक आर एन राम तथा साथ उप निरीक्षक अश्विनी कुमार गस्त के दौरान उक्त गाड़ी का कोच B-4 के पास पहुंचे तो उन्हें एक नाबालिग लड़का मिला जिसकी उम्र लगभग 12 वर्ष थी और मानसिक रूप से बीमार लग रहा था ।

उस लड़के से पूछताछ करने पर लडके ने बताया कि वह गया रेलवे स्टेशन पर चढ़ा है । उसके बाद उस लडके ने अपने आप को बाथरूम में घुस कर दरवाजा बंद कर लिया, काफी मिन्नत करने के बाद भी नहीं खोला गया तो कैरेज एण्ड वैगन स्टाफ की मदद से उक्त कोच के दक्षिण दिशा के दिल्ली तरफ के बाथरूम को खोलकर उक्त लड़के को बाहर निकाला गया,।

इसके बाद पूछताछ के क्रम में लड़के ने अपना नाम मो० आसिफ(काल्पनिक नाम), पिता – मो० आयूफ खान, निवासी गोगा, थाना – मुकाशिल, जिला गया, बिहार बताया। उसने बताया कि हमारे बड़े भाई ने हमको मारा था। जिस कारण मैं नाराज़ होकर घर से बिना बताए भाग कर मुंबई जा रहा था। लड़के द्वारा बताए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क स्थापित कर उक्त लड़के के पिता से बात की गई, उसके पिता द्वारा बताया गया कि लड़के की मानसिक स्थिति ठीक नही है । जिसके लिए दवाई भी चल रही है। अचानक वह घर से सुबह कहीं निकल गया था तथा उसके पिता द्वारा आग्रह किया गया कि मेरे लड़के को वहीं रखे ,वो लेने आ रहे हैं।

आरपीएफ टीम द्वारा लड़के की उम्र नाबालिक होने के कारण डीडीयू चाइल्ड हेल्पलाइन डेस्क डीडीयू को अग्रिम करवाई हेतु लड़के को सुप्रुद कर दिया गया है ।