सुशील सिंह व मनोज सिंह की गाड़ियों में भिड़ंत, पूर्व विधायक ने लगाया जान से मारने का आरोप

चंदौली जिले के दो नेताओं की भिड़ंत हो गयी है। पूर्व सपा विधायक और भाजपा विधायक की गाड़ी की आमने-सामने भिड़ंत में एक नेता की गाड़ी का शीशा टूट गया है। पूर्व विधायक ने वर्तमान विधायक पर जान से मारने का आरोप लगाते हुए तहरीर दी है। हालांकि इस घटना में गाड़ी में टक्कर होने से सैयदराजा के पूर्व विधायक बाल बाल बच गए हैं।

बताते चलें कि सैयदराजा विधानसभा के पूर्व विधायक और वर्तमान विधायक की गाड़ी आमने सामने उस समय टकरा गई जब सैयदराजा के पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू जौनपुर अपने प्रत्याशी के प्रचार के लिए जा रहे थे । तभी बनारस की तरफ से आ रहे वर्तमान विधायक सुशील सिंह की गाड़ी से भूतपूर्व सपा विधायक मनोज सिंह डब्लू की गाड़ी में टक्कर मारते हुए निकल गयी, जिससे दोनों गाड़ियों के शीशे टूट गए।

बताया जा रहा है कि वर्तमान विधायक की गाड़ियां इस घटना के बाद आगे चली गयीं, लेकिन कोई भी हताहत नहीं हुआ।

इस मामले की जानकारी देने के लिए सैयदराजा पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू ने एसपी कार्यालय पहुंचकर बाकायदे मामले की आपबीती सुनायी और वर्तमान विधायक सुशील सिंह द्वारा जान से मारने का प्रयास का प्रार्थना पत्र भी दे दिया।

इस संबंध में सैयदराजा के भूतपूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू ने कहा कि मेरी गाड़ी में जानबूझकर टक्कर मारी गई थी, क्योंकि इसके पहले शहीद के मामले में धरना के दौरान वर्तमान विधायक द्वारा ललकार कर कहा गया था कि मैं तुम्हें देख लूंगा। इस कारण कहीं ना कहीं यह लग रहा है कि सुशील सिंह द्वारा जानबूझकर टक्कर मारी गई है, क्योंकि इनके सरकार के मुख्यमंत्री कहते भी रहे हैं कि जो मिलेगा उसे ठोंक देंगे। इसी क्रम में कहीं न कहीं इनके द्वारा भी मेरे गाड़ियों को गाड़ी को ठोकने का कार्य किया गया है।

इस संबंध में सैयदराजा विधायक सुशील सिंह का कहना है कि यह सरासर गलत है क्योंकि मेरी गाड़ी से उनके गाड़ी में कोई भी टक्कर नहीं हुई है और यदि टक्कर होती तो मुझे जरूर पता चलता। लेकिन यह भी कहा जा सकता है कि हल्की-फुल्की किसी गाड़ी से टक्कर हुई है तो यह उनकी सोच हो सकती है। हमारी ऐसी सोच नहीं है कि किसी से बदले की भावना से प्रेरित होकर कार्य किया जाए।

विधायक ने कहा कि मनोज सिंह द्वारा अपने को सुर्खियों में रखने के लिए किसी भी तरह के आरोप लगाकर सुर्खियों को बटोरने का नाटक करते रहते हैं। कोई और नहीं मुद्दा मिला तो इस प्रकार का आरोप लगाकर मीडिया में बने रहने की तरकीब निकाल रहे हैं।