किसानों का ऐलान : पानी नहीं मिला तो फूंकेंगे सुशील सिंह व महेन्द्र नाथ पांडेय का पुतला

चंदौली जिले के अदसड़ टेल पर फसल की सिंचाई के लिए पानी की मांग को लेकर किसान यूनियन के धरना एवं आमरण अनशन के चौथे दिन भी किसान मोर्चा ने अपना आमरण अनशन जारी रखा।

बताते चलें कि अदसड़ टेल में सिंचाई के लिए पानी की मांग को लेकर भारतीय किसान यूनियन भानु ग्रुप के असना टेल पर धरना प्रदर्शन के चौथे दिन मौजूद रहे। वहीं किसान कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदर्शन के दौरान समुचित पानी नहीं मिला तो किसान अपनी समस्याओं पर लामबंद होकर कल को पुतला दहन करने का निर्णय लिया है। जिसके ज्यादा से ज्यादा संख्या में किसानों भागीदारी करना सुनिश्चित करें, ताकि लड़ाई आर पार की हो ।

धरने में युवा विकास मंच के किसानों की अध्यक्षता कर रहे नरेंद्र प्रताप सिंह व अरुण सिंह ने पूर्ण रूप से समर्थन देते हुए कहा कि किसानों की समस्या का समाधान के लिए अब हम सभी लोग पूर्ण रूप से संकल्पित हैं और जब तक किसानों की यह समस्या का समाधान नहीं होता है…तब तक हम पूर्ण रूप से संकल्प करते हुए युवाओं और किसानों ने इस मांग को ध्वनि मत से पारित कर दिया कि यदि नौकरशाही राज्य में अधिकारियों द्वारा यदि किसानों को पानी पहुंचाने का नहीं कार्य किया जा रहा है, तो उनका प्रतीकात्मक पुतला दहन कर अपनी लड़ाई को लडे़ंगे।

सेवा दिवस में किसान अपनी समस्याओं के समाधान हेतु खुले आसमान के नीचे धरना प्रदर्शन धरना और आमरण अनशन करने के लिए बाध्य हैं।
यह भाजपा की किसान विरोधी नीति के लिए काफी अच्छा संकेत है।
वक्ताओं के क्रम में वासिराम सिंह, राज बहादुर यादव, महावीर सिंह ,बृजकिशोर ,राम अवतार यादव घोषणा किया कि सैयदराजा विधायक सुशील सिंह व जिले के सांसद व भारत सरकार के मंत्री डॉक्टर महेंद्र नाथ पांडेय का धरना स्थल पर पुतला फूंक कर कार्य किया जाएगा।