वैसे तो चंदौली जिले में चोरी, लूट सहित अन्य वारदातों को अंजाम देने वाले कई इनामिया बदमाश पुलिस के लिए मुसीबत बने हुए हैं। कानपुर में हुए हादसे के बाद मुगलसराय कोतवाली पुलिस ने हिस्ट्रीशीटरों की फाइलें खंगालने लगी है। बताया जा रहा है कि कोतवाल ने इन पर विशेष नजर रखने का फरमान जारी कर दिया है।

जिले की मुगलसराय कोतवाली के ही आंकड़ों को देखा जाय तो यहां की फाइल में कुल 74 हिस्ट्रीशीटर पंजीकृत हैं। 61 ए-क्लास और 13 बी क्लास में शामिल किए गए हैं।

कहा जा रहा है कि पुलिस ने नगर क्षेत्र के हिस्ट्रीशीटरों की रोजाना क्लास लेने की योजना बना रही है ताकि यहां पर कोई घटना न हो पाए।

नगर के 74 हिस्ट्रीशीटर हैं, जिन पर कई दिग्गज नेताओं का हाथ है। इन हिस्ट्रीशीटरों पर कोई कार्यवाई करने के पहले पुलिस को कई बातें सोचनी पड़ती हैं।

इतना ही नहीं कई लोगों को पुलिस ने जिला बदर करवा रखा है और नोटिस भी थमाया गया है, लेकिन वह जिले की सीमा में घूमते फिरते देखे जा सकते हैं। केवल छोटे लेवल के लोगों पर ही पुलिस सख्ती दिखाती है। बड़े लोगों के संरक्षण में रहने वाले लोगों को छू नहीं पा रही है।

थाने पर पुलिस की संख्या कम होने के कारण सभी हिस्ट्रीशीटरों की निगरानी नहीं हो पाती। पुलिस की नजरों से बचने के लिए भले ही कुछ दिनों के लिए नोटिस मिलने के बाद हट जाएं। लेकिन, बाद में अपने घर पहुंच जाते हैं।

कोतवाल शिवानंद मिश्रा ने कहा कि अब हिस्ट्रीशीटरों पर नजर रखी जा रही है। क्लास ए के 61 हिस्ट्रीशीटरों पर निगाह रखने के लिए विशेष प्रबंध किए गए हैं। साथ ही बी क्लास के 13 हिस्ट्रीशीटरों पर भी खुफिया तरीके से नजर रखी जा रही है। पुलिस ने मौजूदा संसाधन में हर व्यवस्थाएं कर रखी हैं।