नगर पंचायत अध्यक्ष की मनमानी से परेशान हैं सभासद, DM के दरवाजे पहुंचा मामला

चंदौली जिला मुख्यालय पर स्थित नगर पंचायत बोर्ड की बैठक कई महीनों से नहीं बुलायी जा रही है। नगर पांचायत के अध्यक्ष कहने पर सभासदों की मांग को नजरंदाज करते जा रहे हैं। इससे नाराज होकर सभासदों ने सोमवार को जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल से शिकायत की और बोर्ड की बैठक बुलाने के लिए नगर पंचायत प्रशासन को दिशा निर्देश देने की मांग की।

इसके साथ ही साथ डीएम को पत्रक सौंपकर जन सूचना अधिकार के तहत नौ बिदुओं पर जानकारी मांगी। चेताया सभासदों की उपेक्षा बंद नहीं हुई तो सामूहिक इस्तीफा दे देंगे।

बोले, सभी अपने-अपने वार्ड से निर्वाचित सभासद हैं। जनता अपनी समस्याएं लेकर उनके पास आती है। वार्डों के विकास के लिए प्रस्ताव बनाकर चेयरमैन के समक्ष रखा जाता है तो इस पर कोई कार्रवाई नहीं होती है। चेयरमैन प्रस्तावों को नकार देते हैं। काफी दिनों से नगर पंचायत बोर्ड की कोई बैठक नहीं हुई। इसको लेकर चेयरमैन से सवाल किया गया तो भी उन्होंने शासन के आदेश का हवाला देकर टरका दिया।

सभी ने एक सुर से आरोप लगाया कि सभासदों के प्रति चेयरमैन व अधिशासी अधिकारी का रवैया ठीक नहीं है। विकास प्रस्तावों को नकारा जा रहा है। किसी भी इलाके में काम कराने को लेकर क्षेत्रीय वार्ड सभासद के प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया जा रहा है। ऐसे में सभी को जनता के आक्रोश का सामना करना पड़ रहा है। इससे नगर के विकास में तमाम तरह की बाधाएं आ रही हैं।

सारे सभासदों ने कहा कि यदि उपेक्षा बंद नहीं हुई तो सामूहिक इस्तीफा देने को विवश होंगे। डीएम ने मामले को लेकर गंभीरतापूर्वक विचार करने का भरोसा दिलाया। इस दौरान जमशेद अहमद, उपेंद्र तिवारी, विजय कुमार, नागेंद्र सिंह, रामचंद्र, बबलू सोनी, सीमा गुप्ता, प्रियंका, रीता देवी, अशोक कुमार, महेश जायसवाल मौजूद थे।