चंदौली में चुनावी ड्यूटी कटवाने के लिए कर्मचारी लगाने लगे चक्कर, बना रहे बहाना

चंदौली जिले में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में इस बार कार्मिकों की ऑनलाइन ड्यूटी लगेगी। इसके लिए कार्मिकों की डाटा फीडिंग की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। हालांकि कर्मचारी अभी से ड्यूटी कटवाने के लिए जुगाड़ लगाने के लिए अपने अधिकारीयों और बाबुओं के चक्कर लगाने लगे हैं। अधिकारियों के यहां चक्कर काटने के साथ तरह-तरह की पैरवी लगा रहे हैं और बहाने भी बना रहे हैं ताकि चुनाव ड्यूटी से बच सकें।

जिले में पंचायत चुनाव कराने के लिए 9424 मतदान कार्मिकों की डाटा फीडिग की गई है। इसमें विभिन्न विभागों के कर्मचारियों के साथ महिलाएं भी शामिल हैं। राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश पर कार्मिकों के डाटा का रेंडमाइजेशन किया जाएगा। इसी दौरान उनकी बूथों पर आनलाइन ड्यूटी लगेगी। वहीं प्रशिक्षण की प्रक्रिया भी शुरू होगी। हालांकि ड्यूटी लगने से पहले ही कार्मिक इसे कटवाने की जुगत में लग गए हैं। इसके लिए अधिकारियों के यहां चक्कर काट रहे। वहीं तरह-तरह से पैरवी भी लगाई जा रही है। उनकी कोशिश है कि किसी तरह चुनाव ड्यूटी से मुक्ति मिल जाए।

इस बार पूरी प्रक्रिया आनलाइन होने के चलते चुनाव ड्यूटी से मुक्ति पाना आसान नहीं होगा। जब मैनुअल ड्यूटी लगती थी तब ड्यूटी कटवाना आसान होता था। कार्मिक प्रभारी से पैरवी लगाकर अधिकारी-कर्मचारी मतदान कार्मिकों की सूची से अपना नाम कटवा लेते थे। उनके स्थान पर किसी दूसरे का नाम डाल दिया जाता था लेकिन इस बार यदि गड़बड़ी हुई तो आयोग की नजर में आना तय है। ऐसे में प्रभारी अधिकारी भी किसी रियायत के मूड में नहीं हैं। जो भी अधिकारी-कर्मचारी अपनी समस्या बताते हुए चुनाव ड्यूटी से मुक्त रखने की सिफारिश कर रहे, उन्हें सीधे जिला निर्वाचन अधिकारी के यहां अर्जी देने की सलाह दे रहे।

इनकी नहीं लगेगी ड्यूटी

स्वास्थ्य, बिजली समेत अन्य आवश्यक सेवाओं वाले विभागों के अधिकारी-कर्मचारी चुनाव ड्यूटी से मुक्त रखे जाएंगे। दरअसल, कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों की चुनाव में ड्यूटी नहीं लगेगी। इसी प्रकार बिजली विभाग के कर्मी भी मुक्त रहेंगे। ताकि आवश्यक सेवाएं प्रभावित न होने पाएं।