मां शबरी में भगवान राम का वर्षों तक इंतजार किया, अब और नहीं….

चंदौली जिले के तहसील नौगढ़ का वनवासी समाज भी अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए खास उत्साहित है। मंदिर निर्माण के लिए चल रहे निधि समर्पण अभियान में सहयोग के लिए वनवासी समाज के लोग भी बढ़-चढ़कर सक्रियता दिखा रहे हैं।

क्षेत्र के हिनौतघाट गांव में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे काशी प्रांत के प्रचारक रमेश कुमार ने कहा कि वनवासी चाहते है कि भगवान राम का धाम सबसे सुंदर बने। वनवास के दिनों में भगवान राम आदिवासियों के बीच रहे इस कारण समाज उनसे एक अलग जुड़ाव महसूस करता है।

राम मंदिर निर्माण समर्पण निधी अभियान के पालक अंकुर कश्यप ने कहा कि एक तरफ जहां आदिवासी समाज के सैकड़ों कार्यकर्ता इस अभियान में लगे हैं, वहीं समाज के लोग भी बढ़-चढ़ कर निधि समर्पण कर रहे हैं। चंदौली समाचार को बताया कि आदिवासी बहुल जिस गांव में हम लोग जाते हैं, वहां गांव के लोग हर्षोल्लास के साथ स्वागत करते हैं। वनवासी कहते हैं कि मां सबरी ने तो वर्षों भगवान राम का इंतजार किया था। आज जब उनका मंदिर बन रहा है तो हम लोग सहयोग करने में पीछे कैसे रहेंगे। एक -एक ईंटा का दाम हम भी देंगे, जिनसे जो भी बन रहा है निधि का समर्पण कर रहे हैं।

महुआ बाबा आश्रम जमसोती के गोविंद बाबा ने कहा की अयोध्या में श्री राम मंदिर के निर्माण को लेकर पूरे हिंदू समाज में उत्साह है। जनजाति समुदाय के लोग पीछे नहीं हैं। बिहार में तो राम को लोग रिश्तेदार मानते हैं।

इस मौके पर प्रमुख रूप से काशी विभाग के सह संचालक भाजपा के जिला उपाध्यक्ष काशीनाथ सिंह, जिला कार्यवाह जयप्रकाश, जिला प्रचारक जगदीश, खंड कार्यवाह नौगढ़ अश्वनी मौजूद थे।