प्रधानी की खुन्नस निकालने के लिए घर में कैद किए गए कोरोना पीड़ित के परिजन

चंदौली जिले के बरहनी ब्लॉक के रामपुर गांव में कोरोना की बीमारी के दौरान पंचायत चुनाव की रंजिश भी निकालने की हर संभव कोशिश की जा रही है। एक ऐसे ही मामले में परिजनों को ग्राम प्रधान व ब्लाक कर्मचारियों ने घर में ही नजरबंद किया है।

बताते चलें कि जिले के बरहनी ब्लॉक के रामपुर गांव में एक परिवार के एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर ग्राम प्रधान व सेकेट्री के साथ मिलकर लेखपाल व सफाईकर्मियों की मिलीभगत से उसके परिवार के लोगों को घर में ही नजरबंद रहने के लिए बांस बल्ली से कैद कर दिया गया है। ब्लाक कर्मचारियों व प्रधान के माध्यम से होने वाली सैनिटाइजेशन एवं अन्य सुविधा मुहैया कराने के स्थान पर उन्हें उनके ही घर को चारों तरफ से बांस बल्ली द्वारा घेर दिया गया।

गाइड लाइन के अनुसार उस क्षेत्र की बैरीकेडिंग की जाती है, ना कि घर की ताकि उस क्षेत्र में लोगों का प्रवेश वर्जित रहें। लेकिन चुनावी द्वेष की भावना से इस प्रकार की बैरिकेडिंग देखने को मिल रही है।

वहीं, परिजनों का माने तो यह कहा जा रहा है कि यह कुछ प्रधान के चापलूस लोगों तथा प्रधान की को चुनाव के दौरान वोट ना देने की राजनीति का कारण है ।

वही विभागीय अधिकारियों द्वारा भी प्रधान के सुर में सुर मिलाने का कार्य कहीं न किया जा रहा है।

इस संबंध में बरहनी ब्लॉक के विकास खंड अधिकारी एमपी चौबे ने बताया कि यह मामला में संज्ञान में है। कल संबंधित ग्राम विकास अधिकारी द्वारा मौके पर जाकर तत्काल बैरिकेडिंग की व्यवस्था को मानक के अनुरूप कराने का कार्य किया जाएगा।

Ads by Google Ads By  Google Download The App Now