चंदौली जिले के नक्सल प्रभावित कहे जाने वाले नौगढ़ इलाके के गरीबों के बच्चों तथा गर्भवती महिलाओ को मिलने वाला पुष्टाहार बंद होने से नौगढ़ तहसील के ग्राम पंचायत बाघी के कोठी घाट की महिलाओं ने नाराजगी जताई है। बताया जा रहा है कि 1 मार्च से आंगनबाड़ी केंद्र का संचालन बंदकर दिया गया है।

आंगनबाड़ी केंद्र के बंद करने के फैसले के खिलाफ गुरुवार को विकास खंड कार्यालय पर पहुंचकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया और रोष व्यक्त करते हुए कहा कि आंगनबाड़ी केंद्र का संचालन बंद किया गया तो पूरी बस्ती के लोग जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष धरने पर बैठ जाएंगे।

आक्रोशित महिलाओं ने आंगनबाड़ी केंद्र का संचालन प्रारंभ करने और आंगनबाड़ी भवन का निर्माण कराने हेतु उप जिलाधिकारी नौगढ़ विजय नारायण सिंह को पत्रक दिया बताया जाता है कि ग्राम पंचायत बाघी के कोठी घाट बस्ती में बाल विकास परियोजना विभाग के द्वारा खुले आसमान में केंद्र का संचालन कराया जाता था और वहां पर आंगनबाड़ी कार्यकत्री के रूप में सुनीता सिंह की नियुक्ति की गई है, लेकिन मंगलवार को बाल पोषाहार लेकर पहुंचे आंगनबाड़ी कार्यकत्री के परिजन के द्वारा घर घर पोषाहार वितरण किया जाने लगा तो बस्ती की महिलाओं ने लेने से मना किया तो उसने बताया कि कोठी घाट का आंगनबाड़ी केंद्र बंद हो चुका है। 

जानकारी के बाद दोपहर में बस्ती की महिलाओं का समूह बाल विकास परियोजना कार्यालय पहुंचा। वहां किसी के ना मिलने पर खंड विकास अधिकारी कार्यालय पहुंची तो खंड विकास अधिकारी के गायब रहने पर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन करते हुए आरोप लगाया कि गरीबों के कुपोषित बच्चों को स्वस्थ बनाने और उनका कुपोषण दूर करने के लिए चलाई जा रही पोषाहार योजना को अधिकारी मिल बांट कर के खा जा रहे हैं और हम लोगों को इस योजना से वंचित करने की साजिश की जा रही है ।

जब उन्हें जानकारी हुई उपजिलाधिकारी नौगढ़ आ रहे हैं तो वे तहसील में पहुंच गई और बताया कि 1 मार्च से आंगनबाड़ी कार्यकत्री और सहायिका नहीं पहुंच रही है, जिसके कारण हमारे बच्चों की शिक्षा बाधित है और पोषाहार नहीं मिल रहा है। विशेष वितरण दिवस के दिन भी गर्भवती महिलाओं और बच्चों को पोषाहार नहीं बांटा गया और कहा कि आंगनबाड़ी केंद्र का संचालन बंद किया गया तो हम लोग व्यापक आंदोलन करेंगे और जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष सपरिवार धरने पर बैठ जाएंगे।

उप जिलाधिकारी विजय नारायण सिंह ने आश्वासन देते हुए कहा कि आंगनबाड़ी केंद्र संचालन अवरुद्ध होने के मामले की जांच कराएंगे और जिम्मेदार लोगों के विरुद्ध कार्यवाही हेतु जिलाधिकारी को पत्र लिखा जाएगा।