चंदौली जिले की लोकसभा सीट पर समाजवादी पार्टी के टिकट के सबसे बड़े दावेदार रामकिशुन यादव का टिकट कटने के बाद से उनके बारे में तरह-तरह के सवाल उठाए जा रहे थे और माना यह जा रहा था कि वह चुनाव में समाजवादी पार्टी का कोई सहयोग नहीं करेंगे, लेकिन यह सब ही बातें अब कोरी अफवाह सिद्ध हो रही हैं। सपा के मुखिया के साथ मंच साझा करके इसका संदेश दे दिया है।

समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद रामकिशुन यादव ने 8 मई को सकलडीहा विधानसभा में मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव की सभा में मंच साझा करके अपनी रणनीति का खुलासा कर दिया है। उन्होंने मंच पर बैठकर काफी देर तक ना सिर्फ अखिलेश यादव से बातचीत की बल्कि अपने बारे में उड़ रही तमाम अफवाहों पर विराम लगा दिया।

 

समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी डॉ संजय चौहान के समर्थन में जनसभा करने आए अखिलेश यादव ने मंच पर अपने पास बैठा कर रामकिशुन यादव से काफी देर तक बातचीत की, जिससे इस बात का भी संदेश चला गया कि अखिलेश यादव रामकिशुन यादव से किसी भी प्रकार से नाराज नहीं चल रहे हैं।

 

इस प्रकार यह भी कहा जा रहा है कि रामकिशुन यादव ने अखिलेश यादव के मंच पर बातचीत  लोगों को एक संदेश देती है कि उनके खिलाफ चल रही सारी बातें केवल उनकी छवि को खराब करने की कोशिश हैं। वह समाजवादी पार्टी के वफादार सिपाही हैं और पार्टी के निर्देशों के अनुसार ही काम करते है । रामकिशुन यादव ने अखिलेश यादव के मंच पर बातचीत लोगों को एक संदेश देती है कि उनके खिलाफ चल रही सारी बातें केवल उनकी छवि को खराब करने की कोशिश है।