डीएम साहब.. कैसे बनेगा वनवासियों का सीएम आवास, ऐसा है लेखपाल का रवैया

चंदौली जिले के तहसील नौगढ़ में जिलाधिकारी संजीव सिंह के निर्देश पर गंगापुर गांव में वनवासियों को गांव सभा की जमीन उपलब्ध कराने हेतु सीमांकन करने गए अधिकारियों के पास अभिलेख और नक्शा ही नहीं था, लोग बैरंग वापस लौट आए।

बताते चले कि 2018 में सामाजिक वानिकी योजना से लगाए गए प्लांटेशन को लेखपाल के द्वारा गांव सभा की भूमि बताकर वन वासियों को आवंटन किए जाने पर वन चौकी गंगापुर में हुए तोड़फोड़ के विवाद का निपटारा करने तहसीलदार लालता प्रसाद, वन क्षेत्राधिकारी इमरान खान के साथ चकरघट्टा थानाध्यक्ष राजेश सरोज भी मय फोर्स मौके पर पहुंचे थे। लेकिन कानूनगो के बस्ते में अभिलेख नहीं था। मजेदार बात तो यह थी कि राजस्व विभाग और वन विभाग के पास कोई नक्शा मौजूद नहीं था और लोग बैरंग वापस लौट आए। जो नक्शा राजस्व कर्मियों के पास था वह उर्दू में रेखांकित था।

इस मौके पर खंड विकास अधिकारी सुदामा यादव ने कहा कि गांव के 42 वनवासियों को मुख्यमंत्री आवास का निर्माण कराने हेतु उनके खाते में पहली किस्त आ चुकी है। राजस्व विभाग के द्वारा भूमि का आवंटन होते ही निर्माण कार्य प्रारंभ हो जाएगा। चौकी के तोड़फोड़ मामले का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी संजीव कुमार के निर्देश पर दोनों विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे थे।