PM आवास योजना : पैसे के खेल में सब कुछ जायज है झूठ-फरेब और धोखेबाजी…!

चंदौली जिले में सरकारी योजनाओं में लूट खोसट का आलम यह है कि अब तो मातहत अपने अधिकारियों को गलत जानकारी भी दे रहे हैं। धरहरा निवासी एक पीएम आवास के लाभार्थी की दो क़िस्त दूसरे के खाते में चली गई लेकिन तत्कालीन बीडीओ ने एसडीएम को महज एक क़िस्त की जानकारी देकर पल्ला झाड़ लिया। मामले की जानकारी होने पर परियोजना निदेशक ने दो दिन पूर्व बृहस्पतिवार को तत्कालीन बीडीओ व लेखाकार को कार्यालय बुलाकर उनसे जवाब-तलब किया है और मामले फटकार लगायी है।

धरहरा निवासी वनवासी लालमन को 2016-17 में पीएम आवास के लिए सूचीबद्ध किया गया। काफी इंतजार के बाद पता चला कि उनके आवास की पहली किस्त का 44 हजार रुपया 9 अप्रैल 2017 को विशुनपुरा निवासी संजू के खाते में स्थानांतरित हो गया है। शिकायत पर विभाग हरकत में आया। विडंबना यह कि जब विभागीय अधिकारी संजू के खाते में गए धन को वापस करने के लिए कागजी कार्रवाई कर रहे थे तो उसी दौरान दूसरी क़िस्त के 76 हजार रुपये भी संजू के खाते में स्थानांतरित हो गए।

 

मामले को भाजपा के प्रदेश कार्यकारणी सदस्य अमित सिंह ने 15 अक्टूबर 2019 को सम्पूर्ण समाधान दिवस पर डीएम से इसकी शिकायत की। इसके बाद पांच नवंबर 2019 को समाधान दिवस को पड़े शिकायत पत्र के जवाब में तत्कालीन बीडीओ ने पहले किस्त के 44 हजार रुपये गलत खाते में स्थानांतरित होने की गलती तो स्वीकार की, लेकिन 76 हजार की दूसरी क़िस्त के भी उसी खाते में जाने की बात छिपा ली। इसकी जानकारी होने के बाद पीडी ने इसपर संज्ञान लेते हुए कार्रवाई आरंभ कर दी है।