तोड़ी गई मोटरसाइकिल

रक्षाबंधन पर भाई के कलाई में राखी बांधने के एक दिन पहले 30 वर्षीया रीता देवी हमेशा के लिए अपनों से दूर हो गई। अपने पति बाबूलाल के साथ बाइक से जा रही रीता देवी की जलेबिया मोड़ के समीप सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। बाबूलाल बाल-बाल बच गया। घटना की जानकारी होने पर रोते बिलखते परिजन पहुंच गए। हालांकि पुलिस ने घटना के प्रति अनभिज्ञता जाहिर की है।

नौगढ़ कस्बा की रीता देवी रक्षाबंधन पर अपने भाई को राखी बांधने के लिए एक दिन पूर्व ही तैयारी पूरी कर ली थी। वह बुधवार की दोपहर अपने पति बाबूलाल के साथ बाइक पर बैठ अपने मायके बलुआ थाना क्षेत्र के रामगढ़ गांव जा रही थी। रास्ते में जलेबिया मोड़ के समीप भैसों के झुंड से तेज रफ्तार बाइक टकरा गई।

बाइक पर पीछे बैठी रीता देवी के सिर पर गंभीर चोट लगी। राहगीरों व आस-पास के ग्रामीणों ने तत्काल निजी साधन से घायल रीता देवी को चकिया संयुक्त अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

घटना की जानकारी होने पर नौगढ़ व बलुआ से परिजन रोते बिलखते अस्पताल पहुंच गए। पुलिस को बिना सूचना दिए ही परिजन शव अपने साथ लेते गए। इस बाबत कोतवाल एनएन सिंह ने पूछे जाने पर बताया कि घटना की जानकारी नहीं मिली है।