साइकिल रैली निकालकर जिलाधिकारी से मिलने पहुंचे पूर्व सांसद रामकिशुन यादव, जानिए क्या कहा

चंदौली जिले में कृषि कानून सहित सरकार की नीतियों के खिलाफ सपा कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को साइकिल रैली निकाली। रैली का नेतृत्व कर रहे पूर्व सांसद रामकिशुन यादव ने जिलाधिकारी से मिलकर पत्रक सौंपा। साथ ही जिले की प्रमुख समस्याओं से भी अवगत कराया। सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए। कृषि कानून वापस होने तक आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दी।

कृषि कानून के खिलाफ किसान संगठनों के साथ ही विपक्षी दल भी मुखर हैं। सपा कार्यकर्ताओं ने सुबह जिले के विभिन्न हिस्सों से साइकिल जुलूस निकाला। दर्जनों की संख्या में कार्यकर्ता मुख्यालय पहुंचे। यहां पार्टी कार्यालय पर बैठक के बाद कलेक्ट्रेट के लिए रवाना हुए।

पूर्व सांसद ने कहा कि सरकार की जनविरोधी नीतियों के चलते जनता त्रस्त हो चुकी है। कृषि कानून लागूकर पूंजीपतियों को खेती में दखल देने का मौका दिया जा रहा है। इससे किसानों का हित कदापि नहीं हो सकता है। देश भर के किसान पिछले तीन माह से दिल्ली की सीमा पर इकट्ठा होकर प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन सरकार पूरी तरह से संवेदनहीन बनी हुई है। इससे आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

रामकिशुन ने कहा कि भाजपा शासनकाल में महंगाई चरम पर पहुंच चुकी है। पेट्रो पदार्थों की कीमतों पर कोई नियंत्रण नहीं है। पेट्रोल की कीमतें 80 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गई। इसी अनुपात में डीजल का दाम भी बढ़ रहा है। वहीं दैनिक उपयोग की वस्तुएं भी महंगी हो रही है। इससे लोगों का बजट गड़बड़ा गया है। सपा सरकार की नीतियों के खिलाफ संगठन आंदोलन जारी रखेगी।

रैली में जिलाध्यक्ष सत्यनारायण राजभर, छोटू तिवारी, राजू पांडेय समेत अन्य ने भाग लिया।