चंदौली जिले में राजनीति चमकाने आए और बेरोजगारों के लिए कई लुभावने वायदे करने वाले तुलसी सिंह राजपूत की संपत्ति की नीलामी का आदेश जारी हुआ है। बताया जा रहा है कि यह आदेश बिजली विभाग के बकाए के कारण हुआ है।

बसपा के भाईचारा कमेटी जोन के पूर्व मंडल प्रभारी तुलसी सिंह राजपूत के खिलाफ उपजिलाधिकारी सकलडीहा ने नोटिस जारी करते हुए 5 अप्रैल तक की तिथि निर्धारित की है। तुलसी सिंह राजपूत पर बिजली विभाग का 17 लाख 30 हजार 315 रुपये बकाया है। कई बार नोटिस जारी होने के बाद भी अब तक बकाया जमा नहीं किया गया है। इस पर उपजिलाधिकारी न्यायालय की ओर से 5 मार्च को नीलामी की नोटिस जारी की गई है।

सकलडीहा तहसील के पूरा गांव निवासी तुलसी सिंह राजपूत का जिले में दुग्ध उत्पादन का बड़ा कारोबार रहा है। तुलसी सिंह राजपूत वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में प्रगतिशील मानव समाज पार्टी के टिकट पर चंदौली लोकसभा का चुनाव भी लड़ चुके है। हालांकि उनको चुनाव में पराजय का सामना करना पड़ा था। इसके बाद तुलसी सिंह राजपूत ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव में उन्होंने बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। पार्टी हाईकमान में उन्हें बसपा भाईचारा कमेटी के जोन का मंडल प्रभारी भी नियुक्त किया था।

सकलडीहा एसडीएम राजसजीवन मौर्या ने बताया कि तुलसी सिंह राजपूत पर बिजली विभाग का 17 लाख 30 हजार 315 रुपये बकाया है। कई बार नोटिस भेजने के बाद भी अब तक बाकया जमा नहीं कराया गया। इस पर उनकी संपत्ति के नीलामी की पांच अप्रैल तिथि निर्धारित की गई है। यदि बकायेदार निर्धारित तिथि से पहले बकाया जमा कर दें, तो नीलामी की प्रक्रिया से राहत मिल सकती है।