लोकसभा चुनाव की आचार संघिता जारी होने के बाद समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के गठबंधन में पहला बड़ा कार्यक्रम आयोजित होने जा रहा है। हालंकि इस कार्यक्रम की घोषणा पहले ही की जा चुकी थी। पर चुनाव की घोषणा होने के बाद दोनों दलों के पास अपना दमखम दिखाने का एक बड़ा मौका है।

बताया जा रहा है कि मुगलसराय में आज होने वाला कार्यक्रम जोरदार तरीके से किया जाएगा और सपा बसपा के कार्यकर्ता एकजुट होकर भाजपा नेताओं को चेतावनी देना चाहेंगे कि आने वाला लोकसभा चुनाव उस तरह का नहीं होगा जिस तरह वह सोच रहे हैं। इस चुनाव में दोनों दलों के कार्यकर्ता मिल कर भाजपा को हराने की कोशिश करेंगे।

मुगलसराय के एक निजी लान में समाजवादी पार्टी के नेता नेताओं की अगुवाई में सपा बसपा महागठबंधन के कार्यकर्ताओं और नेताओं की बैठक होने जा रही है, जिसमें जिले भर के नेता और कार्यकर्ता शामिल होकर आगामी लोकसभा चुनाव के लिए कमर कसने की तैयारी करेंगे। दोनों दलों के नेताओं के संयुक्त कार्यक्रम में चुनाव को लेकर रणनीति बनाई जाएगी और कार्यकर्ताओं को जोश भरते हुए एक साथ मिलकर काम करने का आह्वान किया जाएगा, जिससे भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार को कड़ी टक्कर दी जा सके और चंदौली जिले की सीट पर समाजवादी पार्टी के घोषित उम्मीदवार को  जिताया जा सके।

हालांकि आपको बता दें कि अभी तक समाजवादी पार्टी कोई उम्मीदवार तय नहीं कर पाई है लेकिन समाजवादी पार्टी के लगभग 1 दर्जन से अधिक दावेदार मैदान में आ चुके हैं। दावेदारों का यही कहना है कि जिसे भी पार्टी टिकट देगी उसे मिलकर जिताने की कोशिश की जाएगी।

आपको बता दें कि सपा बसपा महागठबंधन में चंदौली जिले की सीट समाजवादी पार्टी के खाते में आई है और यहां पर पूर्व सांसद रामकिशन यादव और सपा सरकार के पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह के साथ साथ पूर्व विधायक मनोज सिंह समेत लगभग एक दर्जन दावेदारों अपनी दावेदारी प्रस्तुत करते हुए लोकसभा का चुनाव लड़ने की मांग की है, लेकिन अभी तक आलाकमान ने किसी के नाम पर मुहर नहीं लगाई है।