DPRO ने नौगढ़, चकिया व चहनियां के तीन पंचायत सचिवों को किया सस्पेंड, ये हैं उनके कारनामें

चंदौली जिले का जिला पंचायतीराज अधिकारी ने जिले के 3 ग्राम पंचायत अधिकारियों को कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया है। बताया जा रहा है कि यह कार्रवाई स्वच्छ भारत मिशन के तहत गांव-गांव बनने वाले शौचालयों के निर्माण में ढिलाई बरते जाने पर की गई है।

जानकारी के अनुसार डीपीआरओ ने सोमवार को नौगढ़ ब्लाक के ग्राम पंचायत अधिकारी सौरव कुमार, चहनियां ब्लाक के आनंद कुमार यादव और चकिया ब्लाक के अशोक कुमार को लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया है।

जानकारी के अनुसार नौगढ़ ब्लॉक में तैनात ग्राम पंचायत अधिकारी सौरव कुमार काफी दिनों तक एडीओ पंचायत का अतिरिक्त प्रभार भी देख रहे थे। ग्राम पंचायत मलेवर में 293 शौचालयों के लिए 35 लाख से अधिक का धन आवंटित किया गया था। 31 जुलाई के सत्यापन में पाया गया कि 174 शौचालयों का निर्माण कराने के जहमत ही नहीं उठाई गई। वहीं
26 अधूरे भी पाए गए। इसीलिए कार्रवाई की जा रही है। इसके अलावा अमृतपुर, सेमरसाधोपुर में शौचालयों को पूर्ण कराने के बाद भी कार्य पूर्ति का प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं किया गया। इसके लिए उनके खिलाफ कार्यवाही की जा रही है।

चकिया ब्लाक में ग्राम पंचायत अधिकारी अशोक कुमार ग्राम पंचायत में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत कई अपात्र लोगों को आवास आवंटित किया गया था। वहीं ग्राम पंचायत में शौचालय निर्माण में भी लापरवाही बरती गयी है। बरौझी गांव में 252 के सापेक्ष केवल 75 शौचालय निर्माण कराए गए हैं और बाकी में जमकर हेराफेरी की गयी है। इसी गांव में प्रधान द्वारा शौचालय निर्माण के ₹200000 अपने पास रखने का मामला भी सामने आया है। इसके साथ साथ गढवा व लक्ष्मणपुर में भी सही तरीके से काम ना करने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है।

चहनियां ब्लाक के ग्राम पंचायत अधिकारी आनंद कुमार यादव को भी शौचालय निर्माण में लापरवाही बरतने और ADO पंचायक का फोन न रिसीव करने का मामला सामने आया है। इसके अलावा भी इन पर कई आरोप लगे हैं।

मामले में जिला पंचायत राज अधिकारी ब्रह्मचारी दूबे ने तत्काल प्रभाव से तीनों ग्राम पंचायत सचिवों को निलंबित करने का आदेश दिया है। इससे लोगों में हड़कंप मचा हुआ है।