लेखपाल द्वारा दिए गए गड्ढे में बनेगा मुख्यमंत्री आवास, नौगढ़ तहसील पर गरजे वनवासी

जिले के तहसील नौगढ़ में भूमिहीन वनवासियों को मुख्यमंत्री आवास का निर्माण कराने हेतु गड्ढे में भूमि का आवंटन किए जाने पर गुरुवार को देवदत्तपुर गांव के पुरुष और महिलाओं ने तहसील नौगढ़ पर पहुंचकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया।

वनवासियों ने आरोप लगाया कि गांव के लेखपाल और कानूनगो के द्वारा जानबूझ कर गड्ढे की जमीन का आवंटन किया गया है। तहसील पर सायंकाल तक डटे रहे।
वनवासी मुसहरों का प्रार्थना पत्र लेने के लिए कोई भी अधिकारी नहीं पहुंचा और पेशकार के द्वारा प्रार्थना पत्र लिया गया।

आपको बता दें कि नौगढ़ के देवदत्तपुर गांव में मुख्यमंत्री आवास का निर्माण कराने हेतु 42 वनवासियों के खाते में पहली किस्त आ चुकी है। आरोप है कि गांव के कानूनगो और लेखपाल ने गांव सभा की जमीन कब्जा करके काफी दिनों से खेती करने वाले लोगों से धन उगाही करने के बाद गड्ढे की जमीन का आवंटन किया है। बताया कि गड्ढे को पाटने में ही पहली और दूसरी किस्त का रुपया खत्म हो जाएगा।

पूर्वाहन 11 बजे 40- 50 की संख्या में चंदा लगाकर ट्रैक्टर से आए वनवासियों ने तहसील पर पहुंचकर नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। सायंकाल तक जमे रहे वनवासी मुसहरों का प्रार्थना पत्र लेने के लिए एसडीएम और तहसीलदार नहीं पहुंचे और पेशकार को भेजकर प्रार्थना पत्र लिया गया।

धरना प्रदर्शन करने वालों में प्रमुख रूप से मुराहू बनवासी, विजय मल, रामनरेश, रामसूरत, जवाहिर , भोला, कोलइ , राजेंद्र , समुंदरी, पूजा, शांति , कौशिल्या, अमिता, मीना, सुभाष समेत बस्ती के वनवासी मौजूद थे।