बिना बैंडबाजा व बारात के दो फौजी भाइयों ने की शादी, निभाया अपना फर्ज

सरहद पर देश की रक्षा करने वाले सेना के जवान कोरोना महामारी के दौरान भी देशवासियों के हित में अपना फर्ज नहीं भूलते हैं। कुछ ऐसा ही सेना के जवान दो सगे भाइयों ने बिना बैंडबाजा और बारातियों के सोमवार को रजिस्ट्रार कार्यालय में शादी की रस्म पूरी की। दोनों ने अपनी पत्नियों को गिफ्ट में मास्क व सेनेटाइजर दिया। इसके साथ ही लोगों को महामारी से सतर्क रहने की अपील की। फौजी भाइयों की पहल का सभी लोगों ने सराहना की।

चंदौली जिले के धानापुर विकास खंड के रमदत्तपुर गांव के कैलाश सिंह के दो पुत्र जयशंकर और प्रेमशंकर सेना के जवान है। एक श्रीनगर और दूसरा जयपुर राजस्थान में तैनात हैं। पिछले साल दिसंबर माह में ही शादी का समय निर्धारित हो गया था। सेना के जवान प्रेमशंकर का ग्राम सभा लक्ष्मणगढ़ के सत्यनारायण यादव की पुत्री प्रीति और जयशंकर की सरर्फुद्दीनपुर के रामअवतार यादव के पुत्री अंकिता यादव से शादी होनी थी, लेकिन कुछ अड़चन की वजह से मई में शादी करने का फैसला लिया।

मार्च महीने में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में हालात पूरी तरह बेकाबू हो गए। इस पर दोनों फौजी भाइयों ने सादगी पूर्ण तरीके से शादी करने का फैसला लिया। बिना बैंडबाजा व बारात की शादी करने को वर व कन्या पक्ष के परिजन सोमवार को रजिस्ट्रार कार्यालय सकलडीहा पहुंचे। रजिस्टार कार्यालय में शादी की रश्म पूरा करते हुए विवाह प्रमाण पत्र प्राप्त किया। अधिवक्ता अनिल दूबे ने नव-दंपत्तियों को विवाह प्रमाण पत्र के साथ आशीर्वाद दिया।