चंदौली जिले में कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार हुए विकास दुबे की गिरफ्तारी उज्जैन के महाकाल मंदिर से हो गयी है और उसके कई करीबियों को पुलिस ने इनकाउंटर में मारना शुरू कर दिया है।

इसके साथ साथ उसके कुछ और करीबियों और पत्नी की अंतिम लोकेशन जिले में मिलने पर बुधवार को पुलिस ने होटलों की तलाशी ली और संदिग्धों से पूछताछ की। बिहार होकर नेपाल भागने की आशंका पर नौबतपुर बार्डर, चहनियां, इलिया, चकिया और अन्य स्थानों पर भी पर विकास और ऋचा के पोस्टर चस्पा किए गए हैं।

पुलिस को अंदेशा है कि उसकी पत्नी और करीबी मुगलसराय में भी शरण ले सकते हैं या फिर यहां से सैयदराजा, इलिया, चकिया, नौगढ़ के रास्ते बिहार भाग सकते हैं। बिहार होते हुए नेपाल भागने की भी संभावना जताई जा रही है। इन्हीं आशंकाओं के बीच अत्याधुनिक असलहों से लैस पुलिस ने बुधवार को नगर के छोटे बड़े सभी होटलों को खंगाल रही है।

नौबतपुर स्थित यूपी-बिहार बार्डर पर सख्ती बढ़ाते हुए पुलिस बल तैनात कर दिया है। बिहार जाने वाले प्रत्येक वाहन की तलाशी ली जा रही है। लोगों को पूछताछ के बाद ही पुलिस उन्हें छोड़ रही है। पुलिस इस मामले में जरा सी भी चूक करने की स्थिति में नहीं है।

पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल ने बताया कि बार्डर पर सख्ती बढ़ा दी गई है। वाहनों के साथ संदिग्धों की जांच की जा रही है, ताकि इधर से कोई फरार न होने पाये या चंदौली जिले में कोई शरण लेने पाये।